Kapoor Ke Fayde

By D.G Marketing - 2:13 pm

            हमारे भारत में Kapoor की बहुत महत्वता है पूजा के लिए आरती में काम आने वाले Kapoor Ke Fayde कई  प्रकार के होते है इसकी जानकारी लोगों को अधिक नहीं है. Kapoor जैसी सर्वसुलभ चीज से अनेक लाभ प्राप्त किये जा सकते हैं. आयुर्वेद मत में कपूर कड़वा सुगंधित, हल्का, शीतल होता है. यह अरुचि, विरसता तथा तृष्णा को दूर करता है. यूनानी मत के अनुसार Kapoor दिल और दिमाग को ताकत देने वाला, अतिसार, निमोनिया, जीर्णज्वर तथा क्षय में फेफड़े के जख्म को लाभकारी होता है. त्वचा रोगों में भी यह असरकारक है, जहरीले और फैलने वाले फोड़े-फुसियों को इसके प्रयोग से अच्छा लाभ मिलता है. Kapoor के अंदर कृमिनाशक गुण भी है. इसकी सुगंधिसे ही अनेक रोग उत्पन्न करनेवाले रोगाणु मर जाते हैं. नकसीर का खून बंद करने के लिये यह फायदेमंद रहता है. 

            भारत में Kapoor के नाम से तीन अलग-अलग जाति की वनस्पतियों से प्राप्त हुये द्रव्य मिलते हैं. (1) भीमसेनी कपूर अथवा बरास कपूर (2) पत्री कपूर (3) जापानी या चीनी कपूर. कपूर पक्व और अपक्व के भेद से दो प्रकार का होता है. झाड़ के रस को पकाकर जो कपूर बनाया जाता है उसे पक्व कपूर कहते हैं जो कपूर बिना पकाये ही तैयार किया जाता है उसे अपक्व कपूर कहते हैं, बिना पकाया हुआ कपूर पकाये हुये कपूर की अपेक्षा अधिक साफ तथा मंहगा होता है. भीमसेनी कपूर को ही लोग बिना पकाया हुआ मानते हैं. भीमसेनी Kapoor पानी की अपेक्षा भारी होता है. यह शीघ्रता से उड़ता नहीं है और न ही इसका शीघ्रता से वजन कम होता है. इसका पावडर करने में कठिनाई रहती है तथा बिना अधिक गर्मी के पिघलता भी नहीं है, चीनी Kapoor का पावडर सरलता से हो जाता है यह हवा और गर्मी में शीघ्रता से उड़ जाता है तथा यह पानी की अपेक्षा हल्का भी होता है. यह शरीर के रक्त में मिलकर शरीर की बढ़ी-घटी शक्ति को अच्छी तरह व्यवस्थित कर देता है. 

Kapoor-Ke-Fayde


           कपूर की अलग-अलग मात्राएं शरीर में अलग-अलग असर दिखाती हैं. बाजार में नकली Kapoor भी मिलता है. सामान्यत: असली और नकली कपूर की पहचान करना कठिन है. यहां कुछ ऐसी पहचान बता रहे है जिनसे असली नकली Kapoor में भेद मालूम हो सकता है. 

(1) भौंहों के ऊपर के हिस्से पर मलने पर यदि आंख में ठंडक महसूस होकर पानी टपकने लगे तो असली यदि कोई विशेष प्रभाव न हो तो नकली 

(2) गर्म रोटी के टुकड़े पर रखने से यदि पसीजकर नरम हो जाये तो असली अन्यथा नकली. 

(3) बर्फ मे लपेटकर कपूर को जलाने पर यदि दीपक की तरह जलने लगे तब तो असली है अन्यथा नकली. 

Kapoor के औषधीय प्रयोग 

दांत दर्द - दांत के गड्डे में कपूर रख देने से दांत का दर्द दूर हो जाता है साथ ही दांत का और खोखला होना भी रुक जाता है. 

अतिसार, अंत्रशोथ - यदि दस्त में आव ज्यादा जाती हो या पतली दस्त लगती हो तो दिन में 2-2 टिकिया पानी के साथ लेना चाहिये. टिकिया की मात्रा रोगी के उम्रनुसार कम कर सकते है. 

दमा - दमा रोग हठीला होता है जब दमा का दौर पड़ता है तो रोगी बडाबैचेन हो जाता है एसे में दो  रत्ती  Kapoor और दो रत्ती हींग लेकर दोनों को मिलाकर गोली बनाकर दमा के दौरे केसमय 3-3 घंटे के अंतर पर देने से दमे का दौरा रुक जाता है और रोगी को आराम मिल जाता है. साथ में चुंबक चिकित्सा भी अति लाभकारी है. 

स्नायुदर्द - 25 ग्राम कपूर, 500 ग्राम सिरके में गला लें, फिर उसमें 500 ग्राम पानी मिला लें और शीशी में भरकर रख दें. सिर दर्द, स्नायु दर्द, गठिया के दर्द में उक्त औषधि में कपडा तर करके दर्द वाले स्थान पर रखे, ऐसा करने से दर्द दूर होता है. गठियां:- कपूर और अफीम को राई के तेल में मिलाकर मालिश करने से गठिया का दर्द दूर होता है. इसमें चुंबक चिकित्सा अत्यंत । उपयोगी है. 

शुक्रमेह ओर स्वप्नदोष - वीर्य स्राव पर Kapoor अत्यधिक लाभ दिखाता है. शुक्रमेह, पेशाब के साथ वीर्य निकलने, स्वप्रदोष आदि, में रात्रि को 2-2 रत्ती दूध के साथ देने से फायदा पहुंचता है. यदि खुरासानी अजवायन भी कपूर में मिलाकर दी जाये तो जल्दी फायदा होता है. की अधिक मात्र का सेवन न करें.

कपूर तेल - कपूर को 4 गुने नारियल तेल में मिलाकर चुंबक पर रखने से प्रभावकारी चुंबक कपूर तेल बन जायेगा. यह तैयार तेल उत्तेजक होता है तथा दर्द में राहत पहुंचाता है. चर्म रोग, खुजली, चोट लगना, सूजन, दर्द मोच । आयी सूजन, संधिवात, आमवात से संधियों और कमर उत्पन्न दर्द तथा गर्भावस्था में कमर दर्द तथा मासिक धर्म में हो जाने वाले कमर दर्द में इस तेल की 10-15 मिनट तक मालिश करने से बहुत लाभ मिलता है.

खुरदुरी एडी - कपूर आप के खुरदुरी एडी के लिए बहुत ही लाभ कारी होता है| 1 liter गर्म पानी में 10 Gm Kapoor मिलाले और अपने पैरो को पानी में डूबा ले ओर अछि तरह से मालिश करे और पेट्रोलियम जेली लगा ले रोजाना ऐसा करे|

बालो का घड़ना -1 चमच कपूर के तेल में 2 चमच नारियल के तेल को मिलकर रोजाना लगाये और 1 घंटे से बाल को अछि तरह से धोले बाल घड़ने की समस्या ख़तम हो जायेगी  |

 ये Artical आप को कैसे लगा हमें Comment कर के ज़रूर बताये.👍

  • Share:

You Might Also Like

0 Post a Comment