Jeebh Se Jane Bimari जीभ से जाने बीमारी का पता

By D.G Marketing - 12:23 pm

 जीभ से जाने बीमारी का पता


            आप अपनी जीभ को देखकर अथवा दूसरों की जीभ को देखकर रोग या कि घटित होनेवाले परिणाम (होने वाले रोग का पूर्व रूप) को समझ सकते हैं. सामान्यत: मनुष्य की स्वस्थावस्था में उसकी जीभ तरल एवं साफ होती है. रुग्णता की स्थिति में निम्न प्रकार के लक्षण जीभ द्वारा प्रकट होते हैं.


Jeebh-Se-Jane-Bimari
Image by - https://www.maxpixels.net/



1. ज्वर के होने पर जीभ सूखी मालूम होगी एवं उस पर सफेद परत (लेप) जमा जाता है.

2. यदि लिये हुये आहार का पाचन ठीक से नहीं होता, या कि आप पेप्टिक अल्सर रोग से पीड़ित हैं. ऐसी स्थिति में जीभ का रंग लालिमा लिये होगा.

3. यदि आप रक्ताल्पता रोग (रक्त की कमी होना) से पीड़ित हैं, या कि दुर्बल हैं तो जीभ सफेद होगी.

4. मस्तिष्क गत विकार होने से जीभ बाहर - निकल आती है और हिलती नहीं है.

5. विवन्ध (कब्ज) के होने पर जीभ में छाले पड़ जाते हैं.

6. रक्त प्रवाह का समुचित न होना (बारम्दवर बहुत बार अंगों में शून्यता होने जैसा लक्षण का मिलना) दुर्बलता के 
होने पर जीभ नीलापन लिये होती है.

7.नाडियों में यदि रक्त संचार रुकने लगे तो जीभ काली पड़ जाती है.

8. पीलिया (कामला) रोग में जीभ का रंग हल्का काला हो जाता है.

9. जीभ यदि काली हो रही है तो अशुभ लक्षण समझना चाहिए.

10. मुखपाक के नहीं होने पर भी किसी रस (मधुर-अम्ल-लवण-कटु-तिक्त-कषाय) का ज्ञान नहीं होता. ऐसे रुग्ण व्यक्ति की अल्पायुशेष है. ऐसा समझना चाहिये.

11. जीभ में सूजन, शुष्कता के साथ ही भारीपन एवं कालापन हो तो इसे अरिष्ट लक्षण
जानना चाहिये.


ये Artical आप को कैसे लगा हमें Comment कर के ज़रूर बताये.👍


  • Share:

You Might Also Like

0 Post a Comment