Tanav se kaise bache तनाव से बचने के 15 उपाए

By D.G Marketing - 9:37 am

 Tanav se kaise bache


            तनाव किसी जहर से कम नहीं है, जो मानव शरीर को धीरे-धीरे नष्ट करता है. इसके चंगुल में फंसने (तनावग्रस्त होने) से मनुष्य को कई बड़ी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है. वह मानसिक रोगों से ही पीड़ित नहीं बल्कि कई भयंकर बीमारियों का भी शिकार हो जाता है, जिससे जल्दी छुटकार पाना मुश्किल होता है. तो आइये हम जानते है की Tanav se kaise bache और इस चक्रव्यूह में फंसने से बचने के लिये कुछ जानकारी लें.


Tanav-se-kaise-bache


1. बेवजह बिना सबूत के किसी पर शक न करें क्योंकि शक भी किसी जहर से कम नहीं है. इससे Tanav उत्पन्न होता है जिससे अच्छे मजबूत संबंध बिगड़ जाते हैं. परिवार में दरार पैदा हो जाती है.

2. तबीयत ठीक न होने पर छोटी-छोटी बातों को गहराई से न लें न ही चिंता करें. ज्यादा विचार करने या उस बात को गहराई से लेने से सिरदर्द, उदासी व घबराहट जैसी समस्या निर्माण हो सकती है. कमर दर्द से पीड़ित हो सकते हैं. सामान्य मरीज होने को बावजूद आप अपच व कब्ज के शिकार हो सकते हैं. बेहतर तो यही होगा कि आप शांत रहकर अपना इलाज कराये और आराम करें.

3. कभी किसी से अनावश्यक झगड़ा न करें. अगर ऐसी स्थिति आ जाये तो समझौता करने की कोशिश करें और बात को वहीं खत्म करें. इससे आप तनावग्रस्त होने से बच सकते हैं.

4. Tanav से बचने के कई उपाय हैं. जैसे अच्छा मधुर संगीत धुन सुने, सुविचार वाली Book पढ़ें, ज्यादा दुखी व चिंतित न रहैं. किसी को अपशब्द न कहें, तुनककर न कहें, प्रति दिन फुर्सत के क्षण थोड़ा घूमें, और पैदल चलें,

5. सुबह दफ्तर जाते समय कहीं ट्रैफिक जाम हो जाने पर दफ्तर पहुंचने में देर हो जायेगी यह सोचकर ज्यादा परेशान न होइये वर्ना, जल्दी पहुंचने के चक्कर में दुर्घटना भी हो सकती है. दूसरी बात दफ्तर से लौटते समय भी वहां किसी से हुये विवाद या काम को लेकर परेशान न हों, चिंता न करें, वरना आप किसी बात को लेकर बेचैन रहेंगे तो Tanav के चंगुल में फंस सकते हैं.

6. घर का सारा काम पूरा करने के चक्कर में यदि कोई काम अधूरा रह जाता है या बिगड़ जाता है तो ज्यादा परेशान न हों. कई काम ऐसे होते हैं जो लाख कोशिश करने के बावजूद नहीं हो पाते. इससे इंसान Tanav में आ जाता है.

7. यदि किसी कारणवश ज्यादा परेशानी से Tanav की स्थिति आ जायें तो उस समय धैर्य से काम लें क्योंकि ज्यादा तनावग्रस्त हो जाने से इंसान मानसिक रोगों से पीड़ित हो जाता है. यहां तक कि कई व्यक्ति Tanav के कारण कैंसर के मुंह में समा जाते हैं, मनोवैज्ञानिकों के अनुसार तनाव एक अभिशाप है. इसके शिकंजे में आने से शरीर का नाश होते जाता है. स्वास्थ्य गिरता जा रहा है. इन्सान शीघ्र ही एलर्जी का शिकार हो जाता है और रोगों के गिरफ्त में भी आ जाता है.

8. छात्र-छात्राओं को भी चाहिये कि वे परीक्षा की पूरी तैयारी न होने पर आत्म विधास रखें. ज्यादा Tanav में आकर पढ़ाई न करें न ही परीक्षा देते समय Tanav में आकर घबराये. इससे अच्छा बनने वाला पेपर भी बिगड़ सकता है, माता-पिता को भी चाहिये कि वे उस समय उल्टी सीधी बात कहकर उन्हें निराश न करें. उन पर दबाव न डालें, वरना वेतनावग्रस्त हो जायेंगे. आपका चेहरा उनकी आंखों के सामने घूमते रहेगा जिसका असर उनकी पढ़ाई पर पड़ेगा.

9. किसी के दिल को चुभने वाली बात न कहें. किसी बात को तिल का ताड न बनायें.

10. यदि आप गृहणि हैं और घर का सारा काम आपही को करना पड़ता है और इससे आप Tanav में रहती हैं तो सबसे पहले आप अपने पति का दिल जीतें फिर उनसे अपना काम करने के लिये निवेदन करें. आपके पति आपकी इस विनती को जरूर स्वीकार करेंगे और सहर्ष आपके काम में हाथ बटायेंगे.

11. ज्यादा बोझवाले काम लगातार न करें क्योंकि इससे थकावट आती है, परेशानी बढ़ती है. बीच-बीच में थोड़ा विश्राम भी करें,

12. कोई परेशानी निर्माण हो जाये तो उसे सुलझाने की कोशिश करें ज्यादा परेशान होने से कोई काम बिगड़ जायेगा. इससे आप दुखी होंगे. इसका असर शरीर पर पड़ता है.

13. घर में किसी बात को लेकर बचनन वहीं खत्म करें और काम को शांति से मिल जुलकर निपटाये. घर में बच्चे के रोने से : कोई काम बिग इसका असर शरीर पर पड़ता है. रहें, कोई विवाद को न बढ़ायें बल्कि बात की परेशान न हों. ऐसा भी न हो कि आप घर रहकर दूकान की चिंता करें और दूकान के रहकर घर की चिंता करें. इससे दिल का बोझ बढ़ जायेगा और इंसान तनावग्रस्त हो जायेगा,

14. विपत्ति के समय धैर्य और मौन धारण कर हिम्मत से काम लें.

15. कभी किसी से झूठ भी न बोलें कारण एक झूठ को छिपाने या सच साबित करने के है लिये बार-बार झूठ बोलना पड़ता है. इस झूठ को निभाने में बड़ा मानसिक Tanav और दबाव सहना पड़ता है. इस प्रकार आप उपरोक्त बातों को ध्यान में रखकर तनावग्रस्त होने से बच सकते हैं. 

सुरती दाल

सामग्री- एक कटोरी तुवर दाल, 6-7 लहसुन की कली, 1 चम्मच जीरा, 3 चम्मच घी या तेल, 4-5 सूखी मिरची, चुटकीभर हींग, हल्दी, धनिया की पत्ती, नमक, आधी कटोरी चना दाल.

विधि- दोनों दाल को धोकर हींग व हल्दी मिलाकर पका लें. दाल पकने पर मिक्सी में पिस लें. बाद में घी या तेल में छोंक लगाकर उसमें जीरा, लहसुन की कलियां (कूटके) तथा लाल मिर्च बदामी रंग आने तक फ्राय करें, बाद में यह छौंक दाल में डाल दें. बाद में नमक डालें. थोड़ा-सा पानी मिलाकर एक उबाल आने तकपका लें. चावल के साथ परोसें.


आप को हमारा ये Tanav se kaise bache Artical  कैसा लगा हमें Comment कर के ज़रूर बताये और अपने जान पह्चान वालो  को ज़रूर शियर करे ताकि वो भी ऐसे तनावों से दूर रह सके धन्यवाद . 

  • Share:

You Might Also Like

0 Post a Comment